अब किसान अपना अनाज कही भी बेच सकता है, केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज कानून को हटाया

लॉकडाउन के बीच किसानों के लिए केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया| अब देश का हर किसान अमीर बनेगा, उसे अपने अनाज को कहीं भी बेचने की आजादी होगी क्योंकि केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज हटाने का कानून को लागू कर दिया है...

अब किसान अपना अनाज कही भी बेच सकता है, केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज कानून को हटाया
अब किसान अपना अनाज कही भी बेच सकता है, केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज कानून को हटाया

अब किसान अपना अनाज कही भी बेच सकता है, केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज कानून को हटाया

जी हां ,किसानों के लिए 'वन नेशन, वन एग्री मार्केट' (One Nation – One Agri Market) का मार्ग प्रशस्त करते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को अधिसूचित एपीएमसी मंडियों के बाहर बाधा मुक्त व्यापार की अनुमति देने वाले अध्यादेश को मंजूरी दे दी| आपको बता दे की कृषि उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अध्यादेश, 2020  राज्य सरकारों को मंडियों के बाहर किए गए कृषि उपज की बिक्री और खरीद पर कर लगाने से रोकता है और किसानों को लाभकारी मूल्य पर अपनी उपज बेचने की स्वतंत्रता देता है| 

मंत्रिमंडल के फैसले की घोषणा करते हुए, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, 'मौजूदा एपीएमसी मंडियां काम करना जारी रखेंगी| राज्य एपीएमसी कानून बना रहेगा. लेकिन मंडियों के बाहर, अध्यादेश लागू होगा.' उन्होंने कहा कि अध्यादेश मूल रूप से एपीएमसी मार्केट यार्ड के बाहर अतिरिक्त व्यापारिक अवसर पैदा करने के लिए है ताकि अतिरिक्त प्रतिस्पर्धा के कारण किसानों को लाभकारी मूल्य मिल सक| 

उन्होंने कहा कि पैन कार्ड वाले किसी भी किसान से लेकर कंपनियां, प्रोसेसर और एफपीओ अधिसूचित मंडियों के परिसर के बाहर बेच सकते हैं. खरीदारों को तुरंत या तीन दिनों के भीतर किसानों को भुगतान करना होगा और माल की डिलीवरी के बाद एक रसीद प्रदान करनी होगी. उन्होंने कहा कि मंडियों के बाहर व्यापार करने के लिए कोई 'इंस्पेक्टर राज' नहीं होगा|  मंत्री ने कहा कि मंडियों के बाहर बाधा रहित व्यापार करने में कोई कानूनी बाधा नहीं आएगी|