500 करोड़ PM राहत कोष  में देने के बाद अब 50 लाख लोगों को भोजन करायेगी रिलायंस इंडस्ट्रीज

कोरोना वायरस महामारी की वजह सेदेश में  पैदा हुए  संकट से निपटने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 10 दिनों तक 50 लाख लोगों के भोजन कराने का एलान किया है| भारत में लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का यह अब तक का सबसे बड़ा और अनूठा प्रोग्राम है| (पढ़ें पूरी रिपोर्ट)

500 करोड़ PM राहत कोष  में देने के बाद अब 50 लाख लोगों को भोजन करायेगी रिलायंस इंडस्ट्रीज
500 करोड़ PM राहत कोष  में देने के बाद अब 50 लाख लोगों को भोजन करायेगी रिलायंस इंडस्ट्रीज

500 करोड़ PM राहत कोष में देने के बाद अब 50 लाख लोगों को भोजन करायेगी रिलायंस इंडस्ट्रीज

 कोरोना वायरस महामारी की वजह सेदेश में  पैदा हुए  संकट से निपटने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 10 दिनों तक 50 लाख लोगों के भोजन कराने का एलान किया है| भारत में लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का यह अब तक का सबसे बड़ा और अनूठा प्रोग्राम है| रिलायंस इंडस्ट्रीज के  इस कदम से कोरोना संकट के कारण  बड़ी संख्या में भूख का सामना कर रहे प्रवासी  मजदूरों, बेघर और गरीब लोगों को मदद मिलेगी| आपको बता दें, इससे पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पीएम केयर्स फंड में 500 करोड़ रुपये की सहायता राशि का योगदान किया है| जानकारी के मुताबिक, पीएम केयर्स फंड में 500 करोड़ रुपये के अलावा कंपनी महाराष्ट्र और गुजरात मुख्यमंत्री राहत कोष में भी 5-5 करोड़ रुपये की सहायता राशि देने का भी एलान किया है |

कोरोना महामारी से  जंग  के लिए  रिलायंस इंडस्ट्रीज  पहले  ही PM राहत कोष  में 500 करोड़ राशि का योगदान दिया था, और  सोमवार को  रिलायंस इंडस्ट्रीज ने यह जानकारी दी कि वह 10 दिनों तक 50 लाख लोगों के लिए खाने की व्यवस्था करेगी, यह भारत में अपनी तरह का सबसे अधिक लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का अनूठा प्रोग्राम है|  दरअसल, देश में 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच लगातार ऐसी खबरें आ रहीं थी कि मजदूरों, बेघर लोगों को खाना तक नहीं मिल पा रहा है| इसलिए भारत के सबसे अमीर आदमी, मुकेश अम्बानी की कंपनी ने COVID-19 से पैदा हुए इस संकट से देश  के गरीबो और मज़दूरों को बचाने के लिए उनके खाने का प्रबंध करने का एलान किया है |

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इससे  पहले भी कोरोना महामारी से निपटने के लिए कई बड़े कदम उठाए हैं| सबसे पहले रिलायंस फाउंडेशन ने यह  एलान किया था कि  रिलायंस  इमरजेंसी वाहनों में फ्री ईंधन उपलब्ध कराएगी, और अपने कंपनी के वर्कर्स को इस  माह डबल सैलरी देगी | वही डबल डेटा रिलायंस पहले से ही उपलब्ध करा रही है| COVID-19 से निपटने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 100 बिस्तरों का पहला COVID-19 अस्पताल मात्र 2 हफ्तों में तैयार किया था| साथ ही रिलायंस कंपनी 1 लाख मास्क और हजारों की संख्या में पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट  भी तैयार कर रही है| जिससे  देश के स्वास्थ्यकर्मियों का ख्याल रखा जा सके|

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने सोमवार को कहा, "हमें विश्वास है कि भारत कोरोना वायरस की आपदा पर जल्द से जल्द विजय प्राप्त कर लेगा|  रिलायंस इंडस्ट्रीज की पूरी टीम संकट की इस घड़ी में देश के साथ है और कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई को जीतने के लिए सब कुछ करेगी| "

वही रिलायंस फाउंडेशन की  चेयरपर्सन नीता अंबानी ने कहा, "जैसे राष्ट्र कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए एकजुट है, वैसे ही रिलायंस फाउंडेशन अपने देशवासियों और महिलाओं के साथ मजबूती से खड़ा हैं, खासकर उन लोगों के लिए जो पहली पंक्ति में इससे लड़ रहे हैं|  हमारे डॉक्टरों और कर्मचारियों ने भारत का पहला कोविड-19 अस्पताल स्थापित करने में मदद की है और हम कोविड-19 की स्क्रीनिंग, परीक्षण, रोकथाम और उपचार में सरकार का सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध हैं| "

आपको बता दे रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत की सबसे बड़ी कंपनी है | ऐसे में देश की मुश्किल घडी में यह कदम उठाना रिलायंस इंडस्ट्रीज का देश के प्रति चिंता को जाहिर करता है |