उम्मीद वाली खबर ,जानिए कैसे जीता 104 वर्षीय बुजुर्ग ने कोरोना से जंग

कोरोना वैश्विक महामारी ने इन दिनों काफी ज्यादा भयावह रूप ले किया है हर दिन लाखो लोग इस भयंकर बिमारी की चपेट में आ रहे है | सैकड़ो लोगो हर रोज इस संक्रमण की चपेट में आ कर काल का ग्रास बनते जा रहे है | लेकिन कुछ ऐसी सकरात्मक खबरे सामने आ जा रही है जिससे इस महामारी में लोगो के अंदर एक विश्वास पैदा करने का काम कर रहा है बतादे चौका घाट स्थित एक निजी अस्पताल में 104 वर्षीय बुजुर्ग ने कोरोना से जंग जीत ली दरसअल सोनभद्र के रहने वाले एक 104 वर्षीय बालकृष्ण पांडे को 10 दिन से बुखार था |

उम्मीद वाली खबर ,जानिए कैसे जीता 104 वर्षीय बुजुर्ग ने कोरोना से जंग

कोरोना वैश्विक महामारी ने इन दिनों काफी ज्यादा भयावह रूप ले किया है हर दिन लाखो लोग इस भयंकर बिमारी की चपेट में आ रहे है | सैकड़ो लोगो  हर रोज इस संक्रमण की चपेट में आ कर काल का ग्रास बनते जा रहे है | लेकिन कुछ ऐसी सकरात्मक खबरे सामने आ जा रही है जिससे इस महामारी में लोगो के अंदर एक विश्वास पैदा करने का काम कर रहा है बतादे चौका घाट स्थित एक निजी अस्पताल में 104 वर्षीय बुजुर्ग ने कोरोना से जंग जीत ली दरसअल  सोनभद्र के रहने वाले एक 104 वर्षीय बालकृष्ण पांडे को 10 दिन से बुखार था और अचानक एक दिन उनकी तबीयत ज्यादा खराब होने के कारण उनके परिवार वाले उनको लेकर बनारस आ गए यही एक निजी अस्पताल में उनका इलाज शुरू किया गया |

 



जब परिवार के लोग वाराणसी एक अस्पताल पहुंचे तो इनका ऑक्सीजन सैचुरेशन 65 था निजी अस्पताल के डॉक्टर विद्यासागर पांडे द्वारा इनका इलाज शुरू किया गया इन्हें तुरंत ऑक्सीजन की व्यवस्था दी गई और सरकार द्वारा कोविड-19 जो जरूरी दवाइयों को देने के लिए कहा गया है उन दवाओं को शुरू किया गया धीरे-धीरे इनका ऑक्सीजन लेवल बढ़ता गया और जब इन की जांच लैब में भेजी गई तो यह corona पॉजिटिव निकले उसके बाद इनका इलाज शुरू किया गया और लगातार समय से दवाइयों के सेवन से आज यह पूरी तरह स्वस्थ है |

 

 



इतनी ज्यादा उम्र में भी इन्होंने आसानी से corona को मात दे दी इनके बेटे बनारसी पांडे ने बताया कि इनकी तबीयत ज्यादा खराब हुई तो हम लोग  इनको लेकर बनारस आ गए और यही इनका इलाज शुरू हुआ इनका ऑक्सीजन सैचुरेशन 65 था जब इनका इलाज शुरू हुआ तो सुबह तक इनका ऑक्सीजन 95 प्लस हो गया और अब यह पूरी तरह से ठीक है और अपना दैनिक कार्य भी खुद से ही कर रहे हैं बुजुर्ग व्यक्ति का इलाज करने वाले डॉक्टर विद्यासागर पांडे ने बताया कि हम लोगों ने सबसे पहले इनको ऑक्सीजन दिये उसके बाद धीरे-धीरे सरकार द्वारा जारी की गई दवाओं को देना शुरू किया और धीरे-धीरे आज यह नॉर्मल हो गए और पूरी तरह से corona को हरा दिया उन्होंने कहा कि धैर्य रखकर और भारत सरकार द्वारा जारी कोई प्रोटोकॉल का पालन करते हुए दवाइयों के माध्यम से आप भी इस लाइलाज बिमारी को हरा सकते हैं जिस तरह इन्होंने corona को मात दिया|