मनरेगा श्रमिकों का सहारा बन NORTHERN RAILWAY ने दिया एक करोड़ का काम | 1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS

मनरेगा श्रमिक,मनरेगा श्रमिकों को NORTHERN RAILWAY ने दिया एक करोड़ का काम,1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS,WORK FOR MGNREGA WORKERS by NORTHERN RAILWAY,मनरेगा श्रमिकों को सहारा,

मनरेगा श्रमिकों का सहारा बन NORTHERN RAILWAY ने दिया एक करोड़ का काम | 1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS
मनरेगा श्रमिकों का सहारा बन NORTHERN RAILWAY ने दिया एक करोड़ का काम | 1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS

मनरेगा श्रमिकों का सहारा बन NORTHERN RAILWAY ने दिया एक करोड़ का काम | 1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS

इस वक्त देश में अनलॉक  फेज -2 चल रहा है और काफी धार्मिक स्थल मॉल खोल दिए गए ,लेकिन कोरोना की वजह से लगाए गए लॉकडाउन में व्यवसाय व उधोग धंधे को काफी ज्यादा नुकसान हुआ है|  साथ ही लोगो को काफी ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ा | लेकिन इस दौरान सबसे ज्यादा मुसीबत प्रवासी मजदूरों को उठानी पड़ी है|  

21 मार्च को जब लॉकडाउन लगाया गया था तब शायद सरकार ने उस समय इन मजदूरों के बारे में नहीं सोचा|  लॉकडाउन के बाद सभी व्यवसाय उधोग धंधे बंद हो गए और इन मजबूर मजदूरों के सामने 2 वक्त  के रोटी का भी संकट आ गया इसलिए इन्होने पलायन का मन बना शहर के अपने घर लौटने के लिए पैदल ही निकल पड़े  और बहुत से मजदूरों को सैकड़ो किलोमीटर का सफर पैदल ही तय करना पड़ा| [1 CRORE WORK FOR MGNREGA WORKERS]


इस दौरान बहुत से मजदूर दुर्घटना के शिकार हो गए | लॉकडाउन में सरकार की मदद से करीब 30 लाख लोगो को उनके घर तो पंहुचा दिया गया लेकिन इस लॉकडाउन में बहुत से मजदूर बेरोजगार हो गए और अब सरकार के सामने ये चुनौती है कि सबको रोजगार कैसे दिया जाए|  इसी क्रम में मनरेगा श्रमिकों के लिए उत्तर रेलवे ने एक करोड़ रुपये का काम देने की योजना बनाई है। 

इस मामले में आयुक्त श्रम एवं रोजगार करुणाकर अदीब और नार्दन रेलवे के सीनियर सेक्शन इंजीनियर आरएन चतुर्वेदी के बीच करीब आधा दर्जन कार्य मनरेगा कन्वर्जेंस से कराने की सहमति हुई है।  रेलवे को इन कार्यों को कराने के लिए पूर्व में बाहर से श्रमिकों को लाना पड़ता था। लेकिन अब मनरेगा के तहत यही से सभी श्रमिकों को उनके श्रम व हुनर के हिसाब से रोजगार दिया जाएगा|इस काम में पहले बाबतपुर रेलवे स्टेशन से शिवपुर रेलवे स्टेशन तक और व्यास नगर रेलवे स्टेशन से ब्लॉक हट बी व के तक का कार्य होगा और इसमें मनरेगा श्रमिक वाटर-वे क्लीयरेंस आफ ब्रिजेज 22 पैच पर सेस रिपेयर, मक रिमूवल, घास की सफाई एवं कटाई आदि के नियमित कच्चे कार्य करेंगे। 

साथ ही सरकार का कहना है की कोशिस की जा रही है की मजदूरों को काम मांगने पर काम की कमी ना हो इसलिए जिला प्रशासन मजदूरों के लिए नए नए काम ढूंढ रही | उत्तर रेलवे के इस 1 करोड़ की सौगात से बेरोजगार मजदूरों को रोजगार मिल जाएगा और शायद उनके सामने जो परेशानी है वो कुछ हद तक काम हो जाएगी |
पूरा पढ़ें