आजमगढ़ का नाम बदलने पर अखिलेश यादव का बयान नाम हम बदल देंगे

2017 के बाद से लगातार योगी सरकार के आने के बाद शहरों के नाम बदलने का दौर जारी है , इस से पहले हैदराबाद में भी मुख्यमंत्री योगी का ऐलान हुआ था की अगर हमारी सरकार आती है तो हम इसका नाम बदल देंगे जिसके बाद इन पर कई आरोप लगे थे। अब जानकारी ये आ रही है कि योगी सरकार आज़मगढ़ का नाम बदलने जा रही है, इस पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव का बयान आया है कि।

आजमगढ़ का नाम बदलने पर अखिलेश यादव का बयान  नाम हम बदल देंगे

2017 के बाद से लगातार योगी सरकार के आने के बाद शहरों के नाम बदलने का दौर जारी है , इस से पहले हैदराबाद में भी मुख्यमंत्री योगी का ऐलान हुआ था की अगर हमारी सरकार आती है तो हम इसका नाम बदल देंगे जिसके बाद इन पर कई आरोप लगे थे। अब जानकारी ये आ रही है कि योगी सरकार आज़मगढ़ का नाम बदलने जा रही है, इस पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव का बयान आया है कि।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिेश यादव ने केंद्र सरकार से न्यूनतम समर्थन मूल्य दो गुना करने की मांग की है। सांसद चुने जाने के बाद दूसरी बार अपने संसदीय क्षेत्र में पहुंचे अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था। अब कम से कम न्यूनतम समर्थन मूल्य ही दोगुना कर दे। उन्होंने कहा लेकिन यहां तो एमएसपी मांगने पर जेल में डाल दिया जा रहा है।वहीं आजमगढ़ का नाम बदलने की कवायद पर चेतावनी देते हुए कहा कि हम नाम बदलने वालों का नाम बदल देंगे।

पूर्व मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव के हर्रा की चूंगी स्थित आवास पर उनके पुत्र के वैवाहिक समारोह में हिस्सा लेने के दौरान अखिलेश ने कहा कि  भाजपा सरकार ने आजम खां पर झूठा मुकदमा किया, यही पूरे प्रदेश में हो रहा है। समाजवादी पार्टी कार्यकर्ता सारा उत्पीड़न झेल रहा है और पूर्ण बहुमत से हम 2022 में सपा की सरकार बनाएंगे। रणनीति पूछे जाने पर कहा कि हम इसका खुलासा नहीं करेंगे बाबा की सरकार साजिश करती है। कहा कि हम बड़े दलों से गठबंधन नहीं करेंगे, छोटे दलों के लिए विकल्प खुले हैं। अखिलेश ने कहा कि पूरी दुनिया में वैक्सीन को लेकर तैयारी हो गई है लेकिन हमारी केंद्र सरकार ने अभी तक कोई प्लानिंग नहीं की है। इसके पहले सुबह सर्किट हाउस में सैकड़ों की तादात में जमा कार्यकर्ताओं के उत्साह को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने पीएसी समेत भारी मात्रा में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया था। इस दौरान दुर्गा प्रसाद यादव, संग्राम यादव, नफीस अहमद, समेत तमाम सपा नेता मौजूद थे।