यस बैंक को भारतीय रिजर्व बैंक की सख्ती, जमाकर्ताओं को मिलेंगे पूरे 5 लाख | व्यापार समाचार - ZNDM मीडिया वाराणसी

भारतीय रिजर्व बैंक ने संकट में फंसे निजी क्षेत्र के यस बैंक पर गुरुवार को सख्ती बढ़ाते हुए बैंक के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। यस बैंक  काफी समय से बढ़ते डूबे कर्ज की समस्या जूझ रहा था। इससे पहले सरकार ने एसबीआई और अन्य वित्तीय संस्थानों को नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक  के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी थी। साथ ही बैंक के ग्राहकों के लिए धन निकासी की सीमा 50 हजार रुपये तय कर दी। ग्राहक एक माह में इससे अधिक राशि नहीं निकाल सकेंगे। यह रोक 3 अप्रैल तक लगाई गई है|

भारतीय रिजर्व बैंक ने संकट में फंसे निजी क्षेत्र के यस बैंक पर गुरुवार को सख्ती बढ़ाते हुए बैंक के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। यस बैंक  काफी समय से बढ़ते डूबे कर्ज की समस्या जूझ रहा था। इससे पहले सरकार ने एसबीआई और अन्य वित्तीय संस्थानों को नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक  के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी थी। साथ ही बैंक के ग्राहकों के लिए धन निकासी की सीमा 50 हजार रुपये तय कर दी। ग्राहक एक माह में इससे अधिक राशि नहीं निकाल सकेंगे। यह रोक 3 अप्रैल तक लगाई गई है|भारतीय रिजर्व बैंक  ने बैंक के मैनेजमेंट को टेकओवर भी किया है|रिजर्व बैंक ने एसबीआई के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी प्रशांत कुमार को यस बैंक का नया प्रशासक नियुक्त किया है। बैंकिंग नियामक का कहना है कि खाताधारकों और निवेशकों के हित को देखते हुए यह फैसला किया गया है और अगले कुछ दिनों में निकासी सीमा से जुड़ी नई जानकारी भी दी जाएगी। इसके अलावा यह भी बताया गया है कि निकासी सीमा से जुड़ी रोक बैंक ड्राफ्ट या बैंकर्स चेक पर लागू नहीं होगी।

 भारतीय रिजर्व बैंक ने यस बैंक   का मैनेजमेंट अपने हाथों में लिया है| ये खबर फैलते ही यस बैंक   के ATM पर लोगों की भारी भीड़ जुट गई है| बैंक की नेट बैंकिंग और ATM सेवा भी बंद कर दी गई है| जिसके चलते ग्राहक परेशान हो रहे हैं, लेकिन इस संकट के बावजूद यस बैंक के ग्राहकों को घबराने की जरूरत नहीं है| क्योंकि वित्त मंत्री ने एक फरवरी 2020 को पेश किए बजट में घोषणा की थी कि बैंक डूबने की स्थिति में जमकार्ताओं का 5 लाख रुपये तक सुरक्षित रखा जाएगा. जो अब तक 1 लाख रुपये था| RBI के मुताबिक अगर कोई बैंक डूब जाता है या दिवालिया हो जाता है तो उसके जमाकर्ताओं को अधिकतम 5 लाख रुपये ही मिलेंगे, चाहे उनके खाते में कितनी भी रकम हो| भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की सब्सिडियरी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन  के मुताबिक, बीमा का मतलब यह भी है कि जमा राशि कितनी भी हो ग्राहकों को 5 लाख रुपये मिलेंगे|