तालिबान ने कहा - कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है,हम दुसरो के मामले में हस्तक्षेप नहीं करते

पाकिस्तान तालिबान के नाम पर कश्मीर में आतंक फ़ैलाने का आरोप हमेशा लगता रहा है लेकिन हाल ही में एक खबर ऐसी आई है जिस से बेशक पाकिस्तान को झटका लगा होगा.....

तालिबान ने कहा - कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है,हम दुसरो के मामले में हस्तक्षेप नहीं करते

तालिबान ने सपष्ट कर दिया है कि वह कश्मीर  में जारी पाकिस्तान समर्थित आतंकी ऑपरेशन का हिस्सा नहीं है| तालिबान की राजनीतिक शाखा के प्रवक्ता सुहेल शाहीन ने एक ट्वीट के जरिए स्पष्ट कर दिया कि कश्मीर भारत का आंतरिक मसला है और तलिबाद दूसरे देशों के आंतरिक मसलों में हस्तक्षेप नहीं करता है| इस स्टेटमेंट के जरिए तालिबान ने साफ़ कर दिया कि कश्मीर में जारी 'कथित जिहाद' मूवमेंट का वह हिस्सा नहीं है|

तालिबान के प्रवक्ता सुहेल ने ट्वीट कर कहा- इस्लामिक अमीरात (तालिबान) की नीति रही है कि वह कभी किसी देश के आंतरिक मामलों में दखल नहीं देता है. बता दें कि सुहेल अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात के प्रवक्ता हैं जो तालिबान की पॉलिटिकल शाखा के तौर पर काम करती है| अमेरिका के साथ हो रहे समझौते में भी सुहेल और कई अन्य नेता बातचीत को आगे बढ़ा रहे थे| तलिबान की तरफ से ये स्पष्टीकरण इसलिए सामने आया है क्योंकि सोशल मीडिया पर इस तरह की ख़बरें सामने आ रहीं थीं कि तालिबान के प्रवक्ता ज़बिउल्लाह मुजाहिद ने कहा है कि भारत के साथ कश्मीर मुद्दा सुलझे बिना कोई बात ही नहीं की जा सकती है. इस कथित बयान में ये भी दावा किया गया था कि तालिबान काबुल में सत्ता हासिल करने के बाद कश्मीर में भी ऑपरेशन शुरू करेगा|

हिन्दुस्तान टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान के इस कथित बयान के बाद भारत ने इस पर स्पष्टीकरण के लिए अफगानिस्तान में उनके नेताओं से संपर्क साधा था| इसी के बाद तालिबान के प्रवक्ता सुहेल ने सोमवार शाम एक बयान जारी कर सभी दावों का खंडन कर दिया| हालांकि जानकारों का मानना है कि तालिबान छोटे-छोटे संगठनों का एक गुट है इसलिए ऐसा हो सकता है कि बयान किसी एक धड़े से आया हो|  इनमें से कई पहले भी कश्मीर के पाकिस्तान को दिए जाने या फिर आज़ाद किये जाने का समर्थन करते रहे हैं. हालांकि पाकिस्तान के हक्कानी नेटवर्क को तालिबान के इस बयान से काफी धक्का लगा होगा|