रेलवे ने किया साफ़ मजदूरों से नहीं राज्य सरकार से लिया केवल मानक किराया

जब से देश में मजदूरों को वापस लाने का फैसला हुवा हैं तब से राजनीति में एक मुद्दा गरमाया है मुद्दा मजदूरों की घर वापसी का नहीं है मुद्दा है मजदूरों से रेल किराया वसूलने का।इस बीच रेलवे ने साफ किया है कि उन्होंने प्रवासी मजदूरों से कोई किराया नहीं वसूला है।

रेलवे ने किया साफ़ मजदूरों से नहीं राज्य सरकार से लिया केवल मानक किराया

 

सूत्रों के मुताबिक रेलवे राज्य सरकारों से केवल मानक किराया वसूल रहा है, ये मानक किराया रेलवे की कुल लागत का महज 15% है।

कोरोना महामारी के इस संकट के समय में गरीब से गरीब लोगों को सुरक्षित और सुविधाजनक यात्रा प्रदान करने के लिए रेलवे ने देश के विभिन्न हिस्सों से अब तक 34 श्रमिक विशेष ट्रेनें चलाई हैं। समाचार एजेंसी एएनआइ ने रेल मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से बताया कि रेलवे ने प्रवासी मजदूरों को कोई टिकट नहीं बेचा गया है । बतादे कांग्रेस ने इस मुद्दे को ले कर सरकार पर सवाल खड़ा कर दिया है । कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मजदूरों से लिए गए रेल किराया को ले कर सरकार को आड़े हाथ लिया है | दरअसल एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने बोला रेलवे ऐसे समय में रेल टिकट के लिए प्रवासी मजदूरों से पैसे वसूल रहा है जिस समय वह PM-CARE फंड में पैसे दान कर रहा है।

इस वक्त इस मुद्दे को ले कर काफी राजनीति हो रही है लेकिन इन सबके बिच रेलवे प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचने के लिए काफी सुविधा दे रही है
 इस दौरान रेलवे ने लॉकडाउन के नियमों को पालन करते हुए शारीरिक दूरी बनाए रखते हुवे श्रमिक ट्रेन चला रहा है | प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचने के लिए गाड़ियों को पूरी तरह लॉक रखा जा रहा है  इस सफर के दौरान रेलवे ने प्रवासी मजदूरों को मुफ्त भोजन और बोतलबंद पानी मुहैया कराया है |
पूरी कोशिस की जा रही है की मजदूरों को उनके घर तक सुरक्षित पहुंचाया जाए |