राहत सामग्री वितरण पर जिलाधिकारी की तीखी नज़र | वाराणसी में राहत की आपूर्ति | ZNDM NEWS।

कोरोना के रोकथाम के मद्देनजर 21 दिन का लॉक डाउन  लोगों के लिए काफी चुनौतियां लेकर आई है।इन सब में दो वक्त की रोटी सबसे बढ़ी चुनौती बनी है।ऐसे में कई मददगार हाथों ने आगे आकर लोगों को भोजन मुहैय्या कराने का बीड़ा अपने कंधों पर लिया है।ऐसे में वाराणसी में भी लॉक डाउन के दौरान कई लोग और संस्थाएं आगे आकर लोगों को राशन व भोजन बांटने के कार्य में जुटे हैं ताकि इस लॉक डाउन के चलते कोई भूखे पेट ना सोए।

कोरोना के रोकथाम के मद्देनजर 21 दिन का लॉक डाउन  लोगों के लिए काफी चुनौतियां लेकर आई है।इन सब में दो वक्त की रोटी सबसे बढ़ी चुनौती बनी है।ऐसे में कई मददगार हाथों ने आगे आकर लोगों को भोजन मुहैय्या कराने का बीड़ा अपने कंधों पर लिया है।ऐसे में वाराणसी में भी लॉक डाउन के दौरान कई लोग और संस्थाएं आगे आकर लोगों को राशन व भोजन बांटने के कार्य में जुटे हैं ताकि इस लॉक डाउन के चलते कोई भूखे पेट ना सोए।

लेकिन इन सबके बीच वे वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के बचाव का मंत्र,सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखना भूल जा रहे हैं।विगत दिनों वाराणसी में राशन और भोजन बांटने वाले संस्थाओं द्वारा अधिक संख्या में कार्यकर्ताओं को ईकट्ठा करके सामग्री बटवाई जा रही है ।इसके साथ ही भोजन और सामग्री लेने की होड़ में लोग भीड़ लगा कर लॉक डाउन की धज्जियां उड़ा रहें हैं।

इसी कड़ी में मंगलवार को जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने अधिकारियों के साथ मंथन कर कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए। जिलाधिकारी ने बताया कि अब कोई भी संस्था या व्यक्ति सीधे राशन किट,भोजन पैकेट या किसी भी प्रकार की सामग्री ,गली मोहल्ले या सड़कों पर उतरकर सीधे वितरण नहीं करेगा ।साथ ही इस सिलसिले में जारी सभी पास को 8 अप्रैल से निरस्त माना जाएगा केवल उनके माल वाहक के पास मान्य होंगे। उन्होंने बताया कि भारी संख्या में कार्यकर्ताओं को ईकट्ठा कर भोजन वितरण किया जा रहा है और बड़ी संख्या में लोग वहां पहुंचकर छीना झपटी करते हुए सामग्री को प्राप्त करने का प्रयास करते हैं जिससे कानून व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं किया जा रहा है।
          
इसके मद्देनजर अब कोई भी व्यक्ति या संस्था सीधे भोजन या अन्य सामग्री वितरण नहीं कर पाएंगे इसके लिए उन्हें प्रशासन द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करना होगा।
उन्होंने मौके पर तीन हेल्पलाइन नंबर भी साझा किए।

पहला हेल्पलाइन नंबर-0542-2283306, यह उन व्यक्तियों और संस्थाओं के लिए है जो जरूरतमंदों को भोजन व सामग्री मुहैया कराना चाहते हैं।ऐसे व्यक्ति या संस्था इस नंबर पर कॉल कर भोजन वितरण करने की जानकारी देंगे ।जिसके बाद फूड सेल के वाहन वहां पहुंचकर सामग्री प्राप्त करेगी। और जरूरतमंदों तक भोजन व राशन पहुंचाएगी।
दूसरा हेल्पलाइन नंबर-0542-2283305 पर उन जरूरतमंद व्यक्तियों या समूह के लिए होगा जिनके पास भोजन या भोजन बनाने के संसाधन उपलब्ध नहीं है।इस हेल्पलाइन नंबर पर वह व्यक्ति भी संपर्क कर सकते हैं जिनके पास ऐसे जरूरतमंद लोगों की जानकारी हो जिन्हें सहायता की आवश्यकता हो।
वहीं तीसरा व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर-7518102812 इन दोनों नंबर पर आने वाली जानकारी की डीटेल जानकारी जैसे लोकेशन, नाम ,फोन नंबर प्राप्त करने के लिए होगा।इस पर कोई भी कॉल नहीं उठाया जाएगा।
उन्होंने यह भी बताया कि इस पूरी व्यवस्था की देखरेख वाराणसी विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष,खाद्य सुरक्षा के विहित पदाधिकारी और उनकी फूड इंस्पेक्टर की टीम करेगी।