प्रधानमंत्री मोदी की सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, लॉकडाउन को 3 मई से आगे बढ़ाने पर भी चर्चा

कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश में जारी लॉकडाउन की अवधि भी 3 मई को खत्म हो रही है, ऐसे में आगे की क्या रणनीति होगी| इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा की| ये बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की गई।

प्रधानमंत्री मोदी की सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, लॉकडाउन को 3 मई से आगे बढ़ाने पर भी चर्चा

 

 पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ ये चौथी बार बैठक थी | इस दौरान प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से उनके राज्यों का हाल जाना। 3 मई को समाप्त होने वाले लॉकडाउन 2.0 के बाद के एक्जिट रूट के बारे में बात हुई। साथ ही लॉकडाउन को लेकर भी चर्चा की गई। बैठक के दौरान मुख्यमंत्रियों ने आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने की जरूरत पर जोर दिया। साथ ही कुछ ने प्रतिबंधों को जारी रखने की बात कही। सूत्रों  के मुताबिक बैठक में लॉकडाउन को 3 मई से आगे बढ़ाये जाने पर भी चर्चा की गई |

Z न्यूज़ डिजिटल मीडिया  माध्यम  जानिए इस बैठक से बड़ी बातें-

मुख्यमंत्रियों  के साथ हुई बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने कहा कि लॉकडाउन के सामूहिक प्रयास का लाभ दिख रहा है। लॉकडाउन से  हमें लाभ मिल रहा है। दूसरे देशों के मुकाबले में भारत बेहतर स्थिति में है।  पीएम मोदीने कहा कि हजारों जिंदगियां बचाने में प्रयास महत्वपूर्ण हैं, पहले लॉकडाउन में सख्ती और दूसरी में कुछ ढील देने से अनुभव प्राप्त हुआ|  राज्यों में अच्छा काम हुआ है, हमें लगातार एक्सपर्ट्स के सुझाव मिल रहे हैं| अब मनरेगा समेत कई उद्योग का काम शुरू हो गया है| पीएम ने लॉकडाउन पर राज्यों को संयम का मंत्र भी दिया। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे।

प्रतिबंध जारी रखना चाहते हैं अधिकतर राज्य

प्रधानमंत्री के साथ बैठक में शामिल हुए अधिकतर राज्यों  के मुख्यमंत्री  3 मई के बाद भीप्रतिबंध जारी रखना चाहते हैं, लेकिन इनके बीच कई मोर्चे पर छूट भी चाहते हैं। बैठक में आवश्यक और चिकित्सा सेवाओं पर छूट  और चालू गतिविधियों में सभी आवश्यक सावधानियां बरतने पर भी बात हुई। इस बैठक में सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों ने अपने परामर्श दिए है| प्रधानमंत्री के साथ चर्चा में करीब 9 राज्यों के मुख्यमंत्री अपनी ओर से रिपोर्ट पेश की है| इनमें मेघालय, मिजोरम, गुजरात, बिहार, ओडिशा, पुडूचेरी, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और उत्तराखंड के सीएम शामिल हैं | इस बैठक में केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन शामिल नहीं हुए हैं |

हिमाचल प्रदेश के सीएम ने कहा कि इन प्रतिबंधों को अन्य राज्यों के साथ परामर्श करने के बाद ही हटाया जाना चाहिए। सीएम ने कहा कि राज्यों को 3 मई के बाद भी लॉकडाउन जारी रखना चाहिए। इस दौरान राज्यों और जिलों के अंदर आवागमन पर प्रतिबंध जारी रहना चाहिए।

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री ने केंद्र से पीपीई किट और अन्य चिकित्सा उपकरण प्रदान करने की मांग की।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने अर्थव्यवस्था को तत्काल पुनर्जीवित करने को जरूरी बताया और कहा कि व्यापार को चरणबद्ध तरीके से शुरू करना चाहिए।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लॉकडाउन के लिए राष्ट्रीय मानक संचालन प्रक्रिया की मांग की है|  साथ ही नीती अयोग को परिवर्तनकारी आइडिया के साथ आगे आने की बात कहीं है|  सीएम ने राष्ट्रीय लॉकडाउन जारी रखने पर जोर देने  और  महत्वपूर्ण गतिविधियों को अनुमति देने की बात क।

बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पोलियो अभियान की तरह डोर टू डोर स्क्रीनिंग हो रही है।


प्रधानमंत्री मोदी इससे पहले भी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर चुके हैं| पिछली बैठक में ज्यादातर मुख्यमंत्रियों ने सुझाव दिया था कि लॉकडाउन बढ़ाया जाए|  इससे पहले 11 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी|  तब 14 अप्रैल को लॉकडाउन खत्म होने वाला था| इस बैठक में भी ज्यादातर मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन बढ़ाने की मांग की थी| प्रधानमंत्री मोदी ने फिर 14 अप्रैल को घोषणा की थी कि लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाया जा रहा है|  अब इसी बैठक में तय होना है कि लॉकडाउन 3 का ऐलान किया जाएगा या नहीं