प्रधानमंत्री 27 अप्रैल को देंगे देश दूसरा राहत पैकेज- MSMEs को मिल सकते है 20 हजार करोड़ रुपये का राहत पैकेज

कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 अप्रैल को राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए मुलाकात करेंगे. मनीकंट्रोल को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इसमें देश की आर्थिक स्थिति पर विचार-विमर्श किया जाएगा. ऐसे में मुख्यमंत्रियों से मिले इनपुट के आधार पर एक और वित्तीय राहत पैकेज की घोषणा की जा सकती है

प्रधानमंत्री 27 अप्रैल को देंगे देश दूसरा राहत पैकेज- MSMEs को मिल सकते है 20 हजार करोड़ रुपये का राहत पैकेज

24 अप्रैल को प्रधानमंत्री की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ होने वाली थी जिसको टाल दिया गया।  अब इसे अगले हफ्ते किया जा सकता है | 17 अप्रैल को निर्मला सीतारमन ने कहा था कि भारत सरकार जल्द ही COVID-19 महामारी से निपटने और देश के गरीबों और इंडस्ट्रीज को सहायता देने के लिएकुछ और राहत उपायों और वित्तीय पैकेज की घोषणा करेगी |


पीएम की इस मुलाकात में MSMEs (सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय)के लिए राहत के साथ-साथ किसानों की आमदनी और कृषि संकट पर चर्चा हो सकती है | राहत पैकेज से MSMEs, एक्सपोर्ट्स, एविएशन, कंस्ट्रक्शन सहित उन सेक्टर को राहत मिलेगी जिनमें बड़ी तादाद में मजदूरों की जरूरत होती है | केंद्र सरकार MSMEs को 20 हजार करोड़ रुपये का राहत पैकेज देने की तैयारी कर रही है | कोरोना लॉकडाउन की वजह से इस सेक्टर की हालत बहुत खराब है |

इस पैकेज का उद्देश्य ऐसे ही उद्यमों को राहत देने का है | सरकार ऐसे MSME को 'टर्नअराउंड कैपिटल' देगी जो कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद अपने कारोबार को ​नए सिरे से शुरू कर सकें | 26 मार्च को सरकार ने ऐलान किया था कि वह अगले 3 महीने तक गरीब तबके को मुफ्त में गेहूं और चावल देगी |


इसके अलावा 1.70 लाख करोड रुपये के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना स्कीम की भी घोषणा की गई थी | इसमें सभी कोरोना मेडिकल वारियर के लिए 50 लाख रुपये का इंश्योरेंस कवर भी शामिल था.इसके अलावा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने भी COVID-19 महामारी से निपटने के लिए तमाम नियमों और कानूनों में नरमी का भी ऐलान किया था |