लोकप्रियता में ट्रंप से आगे मोदी विश्व ने भी माना लोहा |

कोरोना वैश्विक महामारी से इस वक्त कोई देश अछूता नहीं है| सभी देशो में अपने नागरिको को इस घातक बीमारी से बचने की कोशिस हो रही है | कही कही पर स्थति थोड़ी सम्भली भी है तो कही पर स्थिति और भयानक हो गई है संक्रमितों से ले कर मरने बालो तक का आकड़ा बढ़ता जा रहा है | लेकिन इस सबके बिच भारत काफी लोकप्रिय हो रहा है दरअसल भारत में अन्य देशो के मुकाबले मौत का आंकड़ा थोड़ा कम है |

लोकप्रियता में ट्रंप से आगे मोदी विश्व ने भी माना लोहा |

 

जिस तरह से भारत ने स्थिति को संभाला रखा है दुनिया में इसकी काफी तारीफ हो रही है | बतादे भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी विश्व कोरोना वायरस महासंकट के वक्त में लोकप्रियता के मामले में सभी वर्ल्ड लीडर्स के पछाड़ दिया है और पहले पायदान पर पहुंच गए हैं।अमेरिका की ग्लोबल डेटा इंटेलिजेंस कंपनी मॉर्निंग कनसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस के मुताबिक 14 अप्रैल को पीएम मोदी की रेटिंग 68 प्रतिशत बताई गई है जो कि साल की शुरुआत में 62 प्रतिशत थी।  जबकि सुपर पावर में शुमार अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की लोकप्रियता अब 3 प्रतिशत गिर गई है। गैलप के हालिया  एक पोल के मुताबिक, मार्च  में अमेरिका में लगाए गए लॉकडाउन के वक्त ट्रंप की लोकप्रियता 49 प्रतिशत थी जो कि अब गिरकर 43 प्रतिशत हो गई है।

अमेरिका में कोरोना वायरस से अब तक  लगभग 40 हजार  से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और ट्रंप प्रशासन  इस वक्त देश की स्थिति ना संभाल पाने के कारण आलोचनाओं के केंद्र में है।  और कोरोना संकट दूसरी बार राष्ट्रपति बनने के रास्ते में भी आ रहा है। वही  जापान के पीएम शिंजो आबे सबसे नीचे हैं। मेक्सिको के राष्ट्रपति आंद्रे मैन्युअल लोपेज ओब्राडार दूसरे नंबर पर हैं।


बतादे अनुमान ये लगाया जा रहा है की पीएम मोदी की इस रेटिंग में सुधार की वजह कोरोना वायरस से निपटने को लेकर उनकी तैयारी है। देश के हित  में  25 मार्च को किया गया लॉकडाउन की घोषणा उनके अहम् फैसलों में से एक है की थी जिसे 14 अप्रैल को 19 दिनों के लिए बढ़ा दिया गया। कह सकते यही की लाकडाउन की वजह से ही कोरोना वायरस से काफी हद तक बचने में सहायता मिली है  इसके साथ ही  सार्क देशों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बैठक हो या फिर जी20 देशों की बैठक कराने के लिए किया जाने वाला पहलया फिर उनके द्वारा वैश्विक नेताओं को महामारी से निपटने में एकजुट करने की भी कोशिश की।

इन सभी वजहों ने ही आज  मोदी की लोकप्रियता को काफी बढ़ा दिया है। इसके अलावा उन्होंने जरूरी दवाइयों के निर्यात से प्रतिबंध हटाते हुए अन्य देशो की  मदद की है जिसे दुनिया में इस फैसले को मानवता के मिशाल के रूप में सराहा जा रहा है| इसके साथ है इस फैसले को  दुनियाभर के देशों ने स्वीकारा भी है।

शायद ऐसे ही नहीं कहते है की मोदी है तो मुमकिन है