जबलपुर से भागा कोरोना पॉजिटिव बंदी नरसिंहपुर चेकिंग में पकड़ाया | Madhya Pradesh News

जबलपुर के मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से भागे कोरोना वायरस पॉजिटिव बंदी जावेद खान को पुलिस ने नरसिंहपुर के मदनपुर में गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के मुताबिक अस्पताल से भागने के बाद वो ट्रक से राजमार्ग तक गया और वहां से बाइक चोरी करके इंदौर की तरफ भाग रहा था।

जबलपुर से भागा कोरोना पॉजिटिव बंदी नरसिंहपुर चेकिंग में पकड़ाया | Madhya Pradesh News

 

तभी चेकिंग कर रही पुलिस ने उसे पकड़ा और गिरफ्तार कर लिया। जावेद रविवार शाम 4 बजे भागा था, सुरक्षा में तैनात पुलिस के चार जवान इससे बेखबर रहे। इन चारों जवानों का सस्पेंड कर दिया गया है। जावेद की गिरफ्तारी पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। जावेद जिस वार्ड से फरार हुआ है, उसके बाहर ताला लगा रहता था। सूत्रों की मानें तो वार्ड के दरवाजे पर लगा ताला टूटा पाया गया है। आशंका जताई जा रही है कि जावेद को भागने में बाहर से मदद पहुंचाई गई। पुलिस अधिकारी यह नहीं बता पाए कि घटना के समय जावेद हथकड़ी में था या नहीं। बताया जा रहा है कि सुरक्षा के लिहाज से पुलिसकर्मियों को आइसोलेशन वार्ड से दूर रहने के निर्देश मिले थे, जिसका फायदा उठाकर जावेद भाग गया।

11 को आई थी पॉजिटिव रिपोर्ट |

जावेद को एक अन्य आरोपित के साथ नौ अप्रैल को इंदौर से सेंट्रल जेल जबलपुर लाया गया था। जेल अधीक्षक गोपाल ताम्रकार ने जेल के भीतर प्रवेश न देकर उसे मेडिकल परीक्षण के लिए विक्टोरिया अस्पताल भेज दिया था। विक्टोरिया में भर्ती कर 10 अप्रैल को उसके थ्रोट स्वाब के नमूने जांच के लिए एनआईआरटीएच आईसीएमआर भेजे गए थे। 11 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद उसे विक्टोरया से मेडिकल के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया गया था। जावेद के अलावा तीन अन्य बंदियों को भी इंदौर से भेजा गया है, जो केंद्रीय जेल में बंद हैं। मालूम हो, इंदौर में चंदननगर क्षेत्र में पुलिसकर्मियों पर हमले के मामले में जावेद पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई थी और उसे जबलपुर भेजा गया था।

चारों आरक्षक निलंबित

फरार जावेद खान की सुरक्षा ड्यूटी में लगे आरक्षक सूरज शर्मा, आरक्षक राहुल देवड़ा, आरक्षक मुकेश कुमार, आरक्षक अखिलेश को एसपी अमित सिंह ने निलंबित कर प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए। वहीं फरार आरोपित पर भी मामला दर्ज किया गया। एसपी अमित सिंह ने जावेद की गिरफ्तारी पर 10 हजार का इनाम घोषित किया था। इसके बाद आईजी भगवत सिंह चौहान ने 25 हजार का इनाम घोषित किया। लेकिन आरोपित के देर रात तक नहीं मिलने पर डीजीपी ने आरोपित की सूचना देने वाले को 50 हजार का इनाम देने की घोषणा की थी।