कोरोनावायरस से लड़ने के लिए तैयार बनारस के अस्पताल | ZNDM NEWS |

कोरोनावायरस का संबंध एक ऐसे वायरस से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस का प्रकोप पहले कभी नहीं पाया गया है। वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान शहर में शुरू हुआ था। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं।

कोरोनावायरस का संबंध एक ऐसे वायरस से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस का प्रकोप पहले कभी नहीं पाया गया है। वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान शहर में शुरू हुआ था। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है। वाराणसी में भी कोरोनावायरस को ले कर हाई अलर्ट रखा गया है और काफी सुरक्षा क इंतजाम किये जा रहे है
आज इसी कड़ी में हम पहुंचे वाराणसी के पंडित दीनदयाल राजकीय चिकित्सालय वहा पर हमने देखा की कोरोनावायरस के लिए क्या व्यवस्थाए की गई है हमने वहा के डॉक्टर से बात की उन्होंने हमें बताया की कोरोनावायरस से कैसे बचा जाए, क्या सावधानी रखी जाए,
 आप को बतादे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोनावायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। हाथों को साबुन से धोना चाहिए। अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रुमाल या टिश्यू पेपर से ढककर रखें। जिन व्यक्तियों में कोल्ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। अंडे और मांस के सेवन से बचें। जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें।