कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत सरकार ने उठाये कदम | ZNDM NEWS

चीन  के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस का संक्रमण अब तक दुनिया के ज़्यादातर देशों तक पहुंच चुका है। दुनिया भर के 67 देश इस जानलेवा वायरस से प्रभावित है जिनमें 3056 मरीजों को कोरोना के चलते मौत के घाट उतरना पड़ा।बहुत ही अफसोस के साथ बताना पढ़ रहा है की इन देशों में भारत भी शामिल हो चुका है।

चीन  के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस का संक्रमण अब तक दुनिया के ज़्यादातर देशों तक पहुंच चुका है। दुनिया भर के 67 देश इस जानलेवा वायरस से प्रभावित है जिनमें 3056 मरीजों को कोरोना के चलते मौत के घाट उतरना पड़ा।बहुत ही अफसोस के साथ बताना पढ़ रहा है की इन देशों में भारत भी शामिल हो चुका है।

बता देे की भारत में इस संक्रमण की पुष्टि पहली बार केरल में हुई जब केरल के तीन लोगों के संक्रमित होने की बात सामने आई।आशंका के दायरे में आए इन 3 मरीज़ों की जांच के परिणाम सकारात्मक पाए जाने पर इनका पूरा इलाज किया गया और छुट्टी दी गई।इसके बाद तीन और मामले सामने आए जबकि 6 लोगों के संक्रमण से प्रभावित होने की आशंका है लिहाजा उनके टेस्ट रिपोर्ट आने तक सभी को आइसोलेशन सेंटर में निगरानी पर रखा गया है।इनमें से एक पॉजिटिव मामला दिल्ली के व्यक्ति का है जो इटली यात्रा से वापस आया है वहीं दूसरा मामला दुबई यात्रा से वापस आए तेलंगाना के व्यक्ति का है।साथ ही मैं बताना चाहती हूँ दिल्ली में पाए गए कोरोना मरीज़ के संपर्क में आए आगरा के 6 लोगों में भी शुरुआती संक्रमण पाए जाने और लखनऊ में मिले कोरोना मरीज़ के खबर से पर पूरा उत्तर प्रदेश दहशत में आ गया था जिसके मद्देनजर नोएडा के तीन और आगरा के दो स्कूल बंद कर सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गयी गई।लेकिन बाद में इन 6 व्यक्तियों के टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव पाए जाने पर लोगों ने कुछ राहत की सांस ली है।पर खतरे की घण्टी अब भी बनी हुई है क्योंकि जानकारी के अनुसार हाल ही में इटली से दिल्ली आए 21 यात्रियों में से 15 यात्रियों में करोना संक्रमण की जांच पॉजिटिव पाई गई है जिसकी तर्ज पर सभी पर्यटकों को ITBC कैम्प,दिल्ली में देख रेख में रखा गया है।
एहतियात के तौर पर भारत सरकार ने जापान, इटली, दक्षिण कोरिया और ईरान के वीज़ा निलंबित कर दिए हैं।वहीं चीन के पर्यटकों पर प्रतिबंध अब भी जारी है।साथ ही एयर इंडिया की शंघाई टू हांगकांग की सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया है ओर 26 दवाओं के निर्यात पर भी फिलहाल रोक लगा दी गई है। दिल्ली के राम मनोहर लोहिया और सफदरजंग अस्पताल को मरीज़ो के ट्रीटमेंट के लिए  नोडल अस्पताल बनाया गया।

जहां एक ओर इस गंभीर समस्या से लड़ने के लिए भारत स्वास्थ मंत्रालय ने भी कमर कस ली हैं।
वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों की हिम्मत बंधाई और कहा कि सभी को  साथ मिलकर काम करने और छोटे-छोटे महत्वपूर्ण उपाय से आत्मसुरक्षा सुनिश्चित करने की आवश्यकता है।