कोरोनावायरस के कारण फिल्म उद्योग के वर्कर हुए बेरोज़गार || मूवी उद्योग || बेरोजगारी

ये संस्था फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े प्रोड्यूसर फ़िल्म और टेलीविज़न स्टार्स से भी मदद के लिए आगे आने की अपील कर रही है. राशन बांटने की यह मुहिम रविवार को फ़िल्मिस्तान स्टूडियो से शुरू होगी. राशन देने के साथ-साथ प्रोड्यूसर एसोसिशन मेकर्स से बातचीत कर यह भी निश्चित करेगी कि डेली वेजर्स को हर दिन के हिसाब से पैसा दिया जाए और सैलरी पर काम कर रहे लोगों को पूरी सेलरी दी जाए.

दरसल कोरोनावायरस के चलते कई फिल्मों की शूटिंग रद्द कर दी गई है जिसकी वजह से
फ़ेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एंप्लॉइज और गिल्ड प्रोड्यूसर एसोसिएशन  ने मिलकर फ़िल्म इंडस्ट्री में हर दिन मज़दूरी करने वाले वर्कर्स को राशन देने की मुहिम शुरू की है. अभी 5000 फ़ूड पैकेट ऑर्डर किए गए है वर्कर्स को राशन देने की प्रक्रिया रविवार से शुरू होगी और एक हफ़्ते तक यह मुहिम जारी रहेगी.

ये संस्था फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े प्रोड्यूसर फ़िल्म और टेलीविज़न स्टार्स से भी मदद के लिए आगे आने की अपील कर रही है. राशन बांटने की यह मुहिम रविवार को फ़िल्मिस्तान स्टूडियो से शुरू होगी. राशन देने के साथ-साथ प्रोड्यूसर एसोसिशन मेकर्स से बातचीत कर यह भी निश्चित करेगी कि डेली वेजर्स को हर दिन के हिसाब से पैसा दिया जाए और सैलरी पर काम कर रहे लोगों को पूरी सेलरी दी जाए. अभी तक फेमस प्रोडक्शन कंपनी ने वर्कर्स को राशन बांटने की इस मुहिम में सबसे पहले सहयोग किया है.

इससे पहले इसी बात को ट्विटर पर सुधीर मिश्रा , अनुराग कश्यप  और अनुभव सिन्हा  समेत कई प्रोड्यूसर गम्भीरता से लेते हुए इन्हें राहत देने के लिए फ़ंड इकट्ठा कर देने की बात कर रहे हैं. ऐसे में देखने वाली बात होगी कि क्या वाक़ई फ़िल्म इंडस्ट्री के ते बड़े प्रोड्यूसर फ़िल्म और टेलीविज़न से हर दिन के हिसाब से कमाई करने वाले लोगों को किस तरह मदद कर राहत पहुंचाती है.

इससे पहले कोरोना के बढ़ते मामलों से टेलिविज़न इंडस्ट्री में भी सतर्कता बरती जा रही है जिसके वजह से मास्क पहन कर शूटिंग चल रही है हालांकि 19 मार्च से 31 मार्च तक टीवी सीरियल के सेट पर शूटिंग बंद रहेगी.असल में हालांकि शूटिंग बंद होने का असर फ़िल्म इंडस्ट्री में काम कर रहे स्पॉटबॉय, मेकअप आर्टिस्ट, लाइटमैन और प्रोडक्शन से जुड़े कई लोग और साथ ही जूनियर आर्टिस्ट जैसे उन तमाम उन लोगों पर पड़ेगा जिन्हें हर फ़्रीलांसर के हिसाब से पेमेंट मिलता था. क्योंकि शूटिंग बंद रहेगी तो ज़ाहिर तौर पर इसका ख़ामियाज़ा इन्हें उठाना पड़ेगा.