उइगर मुसलमानों के शरीर के अंगो को निकालकर कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रहा है चीन -विदेशी न्यूज़ एजेंसी का दावा

चीन के वुहान शहर से निकले कोरोना वायरस से पूरी दुनिया के देश चीन से नाराज है खासकर अमेरिका। अमेरिका तोह सीधे शब्दो में चीन पर कोरोना वायरस जानबूझ के फ़ैलाने का आरोप लगाता रहा है इसी बीच ,चीन में उइगर मुसलमानों के हो रहे उत्पीड़न को लेकर चीन फिर निशाने पर है.....

उइगर मुसलमानों के शरीर के अंगो को निकालकर कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रहा है चीन -विदेशी न्यूज़ एजेंसी का दावा

इस बार अमेरिकी सीनेट ने एक प्रस्ताव पारित कर चीन से उइगर मुसलमानों पर हो रहे जुल्म पर चीन से जवाब मांगा है | अमेरिका की सीनेट में ये प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हो गया है और अब इसे संसद के निचले सदन हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव में पेश किया जाएगा | बता दें कि कोरोना संक्रमण के चलते उइगर मुसलमानों पर जुल्म की कई ख़बरें चीन से आ रही हैं, कई रिपोर्ट्स में तो दावा किया गया है कि चीनी सरकार कैंप में बंद उइगर मुस्लिमों के अंग निकालकर कोरोना पीड़ितों का इलाज कर रही है |

 

अमेरिकी सीनेट में पेश प्रस्ताव में कैंप में बंद उइगर मुस्लिमों के अलावा कई अन्य अल्पसंख्यकों समूहों पर चीन में हो रहे उत्पीड़न पर जिनपिंग सरकार से जवाब मांगा गया है | कोरोना वायरस महामारी के लिए अमरीका चीन को ज़िम्मेदार मानता है और इस विधेयक को दोनों देशों के बीच शुरू हुए तकरार का ही हिस्सा माना जा रहा है | यह विधेयक चीन के शिनजियांग शहर में तुर्क मुसलमानों के मानवाधिकारों के उल्लंघन की निंदा करता है और इन मुसलमानों के साथ चीन में हो रही मनमानी और उत्पीड़न को समाप्त करने का आह्वान करता है |

वही ,चीन कहता है कि वो अपने यहां चरमपंथियों के ख़िलाफ़ जारी जंग की वजह से ऐसा कर रहा है | पिछले वर्ष ऐसी कई रिपोर्टें आई थीं, जिनमें दावा किया गया था कि चीन ने आतंकवाद और धार्मिक चरमपंथ से लड़ने के बहाने दस लाख जातीय वीगर और अन्य तुर्क मुसलमानों को 'शिविरों' में रखा जहाँ कथित तौर पर उनका ब्रेन वॉश किया जाता है | इसके लिए चीन की काफ़ी आलोचना भी हुई थी |

आपको बता दें,ये पहली बार नहीं है जब चीन पर उइगर मुसलमानों पे उत्पीड़न का मामला सामने आया है। इससे पहले मशहूर इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट सीजे वर्लमैन ने दावा किया था कि ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिसमें कोरोना वायरस पीड़ितों की जान बचाने के लिए किसी ओर्गेन की ज़रूरत पड़ी और वह बड़ी ही आसानी से उपलब्ध करा दिया गया | ऐसे कई केस सामने आए हैं जिसमें उइगर मुस्लिमों के अंग निकालकर कोरोना पीड़ितों का इलाज किया जा रहा है | हालांकि इन आरोपों का चीनी सरकार ने खंडन कर दिया था | बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है जब चीन पर ऐसे इलज़ाम लगे हैं |  इससे पहले भी सितंबर 2019 में ऐसी रिपोर्ट्स सामने आई थीं जिनमें डिटेंशन सेंटर्स में मुस्लिमों केस साथ ज्यादती की ख़बरें आई थीं |