चेन्नई में कोरोना योद्धा डॉक्टर के शव पर बरसाए गए पत्थर | Corona Warriors |

इस वक्त पूरा देश एक जुट हो कर कोरोना महामारी से जंग लड़ रहा है| सबको उम्मीद भी है की हम जल्द ये जंग जित लेंगे इस जंग से लड़ने के लिए हमारे डॉक्टर्स पुलिसकर्मी सफाई कर्मचारी निरंतर 24 घंटे लड़ाई में लगे हुवे है लेकिन आज आलम ये है की इन्ही के साथ दुर्ब्यवहार किया जाता हैं यहाँ तक की लाठी डंडे पत्थर तक बरसाए जा रहे है कभी कभी तो संक्रमितों का इलाज करते करते खुद संक्रमित हो जाते है और

चेन्नई में कोरोना योद्धा डॉक्टर के शव पर बरसाए गए पत्थर | Corona Warriors |

 

अपनी जान गवा बैठते है ताजा मामला सामने आया हैं चेन्नई से जहा पर संक्रमितों का इलाज करते हुए जान गंवाने वाले चेन्नई के 55 वर्षीय डॉक्टर सिमोन हर्क्यूलिस के शव को दफनाने के लिए परिवार को दर-ब-दर भटकना पड़ा। हद तो तब हो गई जब इस कोरोना योद्धा के शव  पर पत्थरबाजी तक की गई  इस पत्थरबाजी में उनका शव ले जा रही एंबुलेंस के ड्राइवर व सफाईकर्मी घायल हो गए। बता दे  चेन्नई में न्यू होप नाम का अस्पताल चला रहे न्यूरोसर्जन डॉ. सिमोन को एक मरीज से कोरोना  संक्रमण हो गया जिसके बाद उन्हें अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी।  

जब परिवार के सदस्य उनका शव को लेकर कब्रिस्तान गए तो करीब 300 लोगों ने वहा पर विरोध शुरू कर दिया तब नगर निगम ने शव दफनाने के लिए अन्नानगर स्थित कब्रिस्तान में व्यवस्था की। लेकिन जैसे ही वो वहां पहुंचे वैसे ही करीब 50-60 लोगों ने उन पर पत्थर बरसाने शुरू कर दिए।  मजबूर हो कर उन्हें वहा सेकिसी तरह से भारी पुलिसबल के साथ रात 1:30 बजे शव को किलपॉक कब्रिस्तान में दफनाया गया।

इस मामले में पुलिस ने करीब  20 लोगों को गिरफ्तार किया है। बतादे प्रदेश की स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर बीला राजेश ने ट्वीट के जरिये डॉक्टर सिमोन को उनकी सेवाओं के लिए नमन किया और स्वास्थ्यकर्मियों को असली हीरो बताया। ये सिर्फ एक घटना नहीं है ऐसे कई और भी मामले सामने आए है  बतादे  13 अप्रैल को भी एम्बातुर के नागरिकों ने कब्रिस्तान के बाहर हंगामा किया था | तब एक 62 वर्षीय डॉक्टर की मौत कोरोना वायरस की वजह से हो गई थी और उसे जब कब्रिस्तान में दफनाने के लिए ले गए तो लोगों ने काफी हंगामा शुरू कर दिया |

उस वक्त भी पुलिस और स्थानीय प्रशासन की सहायता से डॉक्टर के शव को किसी दूसरे कब्रिस्तान में दफनाया गया |

आपको बता दें कि देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसे कई मामले सामने आए हैं और आ भी रहे है ,आए दिन कोरोना वायरस के लड़ाई में सबसे आगे  स्वास्थकर्मियो डॉक्टर्स ,पुलिस  को पीटने  या उनपर थूकने के मामले सामने आए है कई ऐसे मामले भी सामने आए जहा पर महिला डॉक्टर व नर्सो के साथ बतमीजी के मामले सुनने को मिले है ये काफी निंदनीय है  |