बीमारियों के इस युग में कितना महत्वपूर्ण है ध्यान व योग |ZNDM NEWS

ऐसे समय में जब भारत ही नहीं अपितु सारा विश्व बीमारियों से जूझ रहा है और वही दवाओं के दुष्प्रभाव से भी पीड़ित है, योग और ध्यान बहुत तेजी से उभरता हुआ एक ऐसा माध्यम बनता जा रहा है जो ना सिर्फ शरीर को रोगों से बचाता है बल्कि मन को भी शुद्ध करता है I 

ऐसे समय में जब भारत ही नहीं अपितु सारा विश्व बीमारियों से जूझ रहा है और वही दवाओं के दुष्प्रभाव से भी पीड़ित है, योग और ध्यान बहुत तेजी से उभरता हुआ एक ऐसा माध्यम बनता जा रहा है जो ना सिर्फ शरीर को रोगों से बचाता है बल्कि मन को भी शुद्ध करता है I 

योग और ध्यान की इसी कड़ी में एक महत्वपूर्ण कड़ी है 'सहज योग' I इसी को समझने हमारी ZNDM News की टीम ने 'वर्षा प्रधान जी' से मुलाकात की I वर्षा जी पिछले १५ वर्षों से सहज योग  से जुडी हुईं हैं और इसको जन-जन  तक पहुँचाने का कार्य कर रही हैं I वे सहज योग के वर्कशॉप्स  भी आयोजित करती हैं I 

 वर्षा जी ने बताया की 'सहज योग' की स्थापना श्री माताजी निर्मला देवी जी ने सन् १९७० के दशक में की थी और कैसे 'सहज योग' के माध्यम से  हम सहजता के साथ आत्म-ज्ञान  की प्राप्ति कर सकते हैं और साथ ही साथ कई बीमारियों से बचे रह सकते हैं I 

An important link in this link of yoga and meditation is 'Sahaja Yoga'. To understand this, our team of ZNDM News met 'Varsha Pradhan ji'. Varsha ji has been associated with Sahaja Yoga for the last 15 years and it is known as public- She is doing the work of reaching the masses. She also conducts workshops of Sahaja Yoga.