बालाकोट एयर स्ट्राइक | जानिए ऑपरेशन बन्दर और कौन थे भारतीय वायु सेना के 5 हीरो |

बालकोट एयरस्‍ट्राइक की पहली वर्षगांठ बात जब बालाकोट एयरस्‍ट्राइक की होती है, तो इसके साथ जुड़ा है पुलवामा,  पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ के 40 जवान जैश ए मोहम्‍मद के आतंकी हमले में शहीद हुए ....बालाकोट एयरस्‍ट्राइक इसी पुलवामा आतंकी हमले का प्रतिकार था, बदला था ..... बालाकोट एयरस्‍ट्राइक कैसे हुई, कितने दिन पहले इसका प्‍लान  बना, इसके पीछे के अनसंग हीरो कौन थे ? कौन थे ऐसे पांच लोग, यही इस वीडियो मे विस्‍तार से बताया गया है।   26 फरवरी सुबह साढ़े तीन बजे के करीब एयरस्‍ट्राइक की प्‍लानिंग थी ।

  बालकोट एयरस्‍ट्राइक की पहली वर्षगांठ बात जब बालाकोट एयरस्‍ट्राइक की होती है, तो इसके साथ जुड़ा है पुलवामा,  पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ के 40 जवान जैश ए मोहम्‍मद के आतंकी हमले में शहीद हुए ....बालाकोट एयरस्‍ट्राइक इसी पुलवामा आतंकी हमले का प्रतिकार था, बदला था ..... बालाकोट एयरस्‍ट्राइक कैसे हुई, कितने दिन पहले इसका प्‍लान  बना, इसके पीछे के अनसंग हीरो कौन थे ? कौन थे ऐसे पांच लोग, यही इस वीडियो मे विस्‍तार से बताया गया है।   26 फरवरी सुबह साढ़े तीन बजे के करीब एयरस्‍ट्राइक की प्‍लानिंग थी । पूरे ऑपरेशन की पूर्व एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ ने अपने घर से मॉनीटरिंग की, इसका समय सुबह रखने के पीछे की वजह उन्‍होंने बताई कि तब सारे आतंकवादी सो रहे होंगें, क्‍योंकि फज्र की नमाज का वक्‍त सुबह 4 बजे  होता है। एयरफोर्स के वाइस चीफ और वेस्‍टर्न एयरकमांडर ऑपेरशन रूम में थे। जब ऑपरेशन पूरा हो गया, इसके बाद बीएस धनोआ ने इसके बारे में रक्षामंत्री, एनएसए अजीत डोवाल और दो अन्‍य सेनाओं प्रमुखों को बताया ........... वैसे रिपोर्ट ये भी हैं सरकार की मंजूरी मिलने के बाद केवल सात लोग ऐसे थे। जिन्‍हें इस पूरे मामले की जानकारी पहले से थी, जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अजीत डोवाल, तीन सेनाओं के प्रमुख और रॉ और इंटेलीजेंस ब्‍यूरो के प्रमुख शामिल थे। वैसे बालाकोट एयरस्‍ट्राइक के पांच हीरो की बात करें तो इनमें सबसे ज्‍यादा अहम हैं वो पांच पायलट विंग कमांडर अमित रंजन, स्‍क्रवॉडन लीडर राहुल बशोया, पंकज भुजाड़े, बीकेएन रेड्डी, शशांक सिंह ....क्‍योंकि उन्‍होंने ही अपने मिराज 2000 से बमबारी की थी। वहीं एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ का बतौर प्रमुख होने के कारण सबसे अहम था। कृष्‍ण कुमार ने Balakot Air strike 2019 की कहानी सिलसिलेवार तरीके से बताई है।