अब नहीं खुलेंगे बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट

कोरोना वायरस के कारण जो हजारों सालों में नहीं हुआ, वो अब हो रहा है। कोरोना लॉकडाउन के मद्देनजर बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तारीखों में बदलाव किया गया है। पहले बदरीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल और केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल को खुलने थे।

अब नहीं खुलेंगे बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट

 

लेकिन कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन की अवधि बढ़ाने के कारण कपाट खोलने की तिथि में बदलाव किया गया है। सोमवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने टिहरी महाराज मनुजेंद्र शाह के साथ बैठक की, इस दौरान लॉकडाउन की परिस्थितियों को देखते हुए बदरीनाथ और केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीखों में बदलाव का फैसला किया गया है। अब  केदारनाथ धाम के कपाट आने वाले  14 मई को और बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को खोले जाएंगे। बदरीनाथ धाम के कपाट आगामी 15 मई को सुबह 4:30 बजे खोले जाएंगे।

बदरीनाथ के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि 15 मई तक कोरोना का प्रकोप काफी हद तक समाप्त हो जाएगा। हर साल धाम के कपाट खुलने को लेकर एक महीने पहले ही तैयारियां शुरू हो जाती थीं। मंदिर में रंग-रोगन होता था, व्यवस्थाएं दुरुस्त की जाती थीं, लेकिन इस बार लॉकडाउन के चलते ऐसा नहीं हो सका। चारधाम यात्रा पर कोरोना का ग्रहण लग गया है, जिससे वो लोग भी निराश हैं जो पिछले एक साल से चारधाम यात्रा शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। 

 

आपको बता दें , उत्तराखंड में जो हजारों सालों में कभी नहीं हुआ वो अब कोरोना वायरस के चलते हो रहा है | यहां कोरोना की वजह से देवस्थानों में सदियों पुरानी परंपराएं बदलने लगी हैं। हज़ारो सालों में ऐसा पहली बार होगा जब तय समय पर केदारनाथ और बद्रीनाथ धामों के कपाट नहीं खोले जाएंगे |