आज बैंको के विलय के साथ बदल जायेंगे देश के कई वित्तीय नियम | ECONOMY NEWS HINDI

बदलावों का आपकी जिंदगी पर सीधा असर पड़ेगा। इन नए नियमों से जहां एक ओर आपको राहत मिलेगी, वहीं अगर आपने कुछ बातों का ध्यान नहीं रखा तो आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है (पूरी जानकारी)

आज बैंको के विलय के साथ बदल जायेंगे देश के कई वित्तीय नियम | ECONOMY NEWS HINDI
आज बैंको के विलय के साथ बदल जायेंगे देश के कई वित्तीय नियम

आज बैंको के विलय के साथ बदल जायेंगे देश के कई वित्तीय नियम 

बजट 2020 में घोषित किए गए नए आयकर स्लैब को अप्रैल से लागू किया जा रहा है। नए वित्त वर्ष की शुरुआत के साथ ही कई क्षेत्रों के नियमों में भी बदलाव होंगे । सरकार इन नियमों में बदलाव को लेकर पहले ही अधिसूचना जारी कर चुकी है। इसके तहत टैक्स, बैंकिंग, उद्योग, रसोई गैस सिलिंडर के दाम, पेंशन, बैंकों द्वारा ग्राहकों को दिया गया सस्ते कर्ज सहित कई क्षेत्रों के नियमों में बदलाव होगा जिसका उपभोक्ताओं पर सीधा असर पड़ेगा। सरकार ने बजट में नए आयकर स्लैब में टैक्स की दर घटाकर 5 फीसदी, 10 फीसदी, 15 फीसदी, 20 फीसदी, 25 फीसदी और 30 फीसदी कर दिया था।

इन बदलावों का आपकी जिंदगी पर सीधा असर पड़ेगा। इन नए नियमों से जहां एक ओर आपको राहत मिलेगी, वहीं अगर आपने कुछ बातों का ध्यान नहीं रखा तो आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकता है। सबसे महत्वपूर्ण बदलाव बैंको में किये गए है | देश में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के बीच 1 अप्रैल यानी आज देश में 10 बैंकों का विलय होने जा रहा है, जिसके बाद यह चार बैंक में बदल जाएंगे और देश में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की संख्या  27 से घटकर 12 हो जाएगी।


आइए जानते हैं किन बैंको का विलय किस बैंक में हो रहा है-


कॉरपोरेशन बैंक और आंध्रा बैंक का विलय यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में, इंडियन बैंक का  इलाहाबाद बैंक में, केनरा बैंक का  विलय सिंडिकेट बैंक में वहीँ  यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, ओरियंटल बैंक और बैंक ऑफ इंडिया का विलय पंजाब नेशनल बैंक में हो गया है | इसी के साथ पंजाब नेशनल बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन गया है  |इससे खाताधारकों के लोन की ईएमआई, खाता नंबर, डेबिट-क्रेडिट कार्ड, चेकबुक, एफडी पर ब्याज, बैंक ब्रांच, आईएफएससी कोड, आदि में बदलाव हो सकता है।