8 से 15 मार्च तक ठप्प रहेंगी बैंकिंग सेवाएं | ZNDM NEWS |

अगर आप होली अच्छे से मानना  चाहते है तो कैश का इंतेज़ाम अभी से कर लीजिये या अगर आप इन छुट्टियों में अपना बैंकिंग का काम निपटना चाहते हैं तो आपके लिए ये  बेहद जरूरी खबर है|  अगले महीने यानी मार्च 2020 में लगातार आठ दिनों तक बैंकिंग कार्य बाधित रहने वाले हैं। इसलिए अगर आपको समय पर अपने बैंकिंग कार्य पूरे करने हैं, तो आपको बैंकों की छुट्टियों (Bank Holidays) और बैंक हड़ताल (Bank Strike) को ध्यान में रखते हुए चलना होगा।

अगर आप होली अच्छे से मानना  चाहते है तो कैश का इंतेज़ाम अभी से कर लीजिये या अगर आप इन छुट्टियों में अपना बैंकिंग का काम निपटना चाहते हैं तो आपके लिए ये  बेहद जरूरी खबर है|  अगले महीने यानी मार्च 2020 में लगातार आठ दिनों तक बैंकिंग कार्य बाधित रहने वाले हैं। इसलिए अगर आपको समय पर अपने बैंकिंग कार्य पूरे करने हैं, तो आपको बैंकों की छुट्टियों (Bank Holidays) और बैंक हड़ताल (Bank Strike) को ध्यान में रखते हुए चलना होगा। बैंकों में काम काज ठप रहने के कारण बैंक ब्रांचों में लेनदेन और चेक क्लीयरेंस, लोन अप्रूवल जैसी ग्राहकों के  महत्वपूर्ण बैंकिंग कार्य रुक सकते हैं। देश में सरकारी बैंकों का कामकाज 8 मार्च से 15 मार्च तक लगातार आठ दिनों के लिए ठप रह सकता है। इन आठ दिनों के दौरान बैंक बंद रहने वाले हैं। क्योंकि आठ मार्च को रविवार है, जिस दिन बैंक बंद रहता है। इसके बाद देश में कई जगहों पर होली की छुट्टी 9 मार्च को है, तो कई जगहों पर 10 मार्च को, इसलिए  9 व 10 मार्च को दोनों ही दिन बैंकों की छुट्टी रहेगी। इसके बाद 11, 12 और 13 मार्च को सरकारी बैंकों की यूनियनों की अगुआई में बैंक कर्मचारी हड़ताल पर जाने वाले हैं। इसलिए इन तीनों दिन देश भर में सरकारी बैंक बंद रहेंगे। बैंकों की हड़ताल खत्म होने के बाद 14 मार्च को दूसरा शनिवार है, जिस कारण बैंक बंद रहेंगे और फिर आठवें दिन यानी 15 मार्च को रविवार होने के चलते बैंकों की छुट्टी रहेगी। इस तरह देश भर में 8 मार्च से 15 मार्च के बीच बैंकिंग कार्य बाधित रह सकते हैं। बैंक कर्मचारी अपनी सैलरी को रिवाइज कराने की मांग को लेकर हड़ताल करने जा रहे हैं। सरकारी बैंकों की यूनियन बैंक एंप्लॉयी फेडरेशन ऑफ इंडिया (BEFI) और ऑल इंडिया बैंक एंप्लॉयी असोसिएशन (AIBEA) ने 11 से 13 मार्च तक देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया हैं। बैंक कर्मचारियों का कहना है कि हर पांच साल में बैंकों के अधिकारियों और कर्मचारियों का वेतन रिवाइज किया जाता है, लेकिन 2012 के बाद से ऐसा नहीं हुआ है। साथ ही बैंक यूनियनों ने दो साप्ताहिक अवकाश देने की भी मांग की है। बैंकों में लगातार इतने दिन कामकाज बाधित रहने के चलते ग्राहकों को काफी परेशानी उठानी पड़ सकती है। ग्राहक इन दिनों में बैंकों में लेनदेन नहीं कर पाएंगे और उनके चेक क्लियरेंस जैसे महत्वपूर्ण बैंकिंग कार्य भी बाधित रह सकते हैं। अपने बैंकिंग कार्यों को समय पर पुरा करने के लिए ग्राहकों को बैंकों की छुट्टियों और हड़ताल को ध्यान में रखकर  v परेशानी से बचने के लिए अपने महत्वपूर्ण बैंकिंग कार्य मार्च के पहले हफ्ते में ही निपटा लेने चाहिए।