देश की सारी 6 मेट्रो सिटी और बड़े शहर रेड जोन में हैं | 170 जिले रेड जोन घोषित |

कोरोना वायरस को लेकर केंद्र द्वारा जारी ताज़ा जानकारी के मुताबिक देश के 377 जिलों में कोरोना के मरीज पाए गए हैं, जिसमें से 170 जिले रेड जोन घोषित किए गए हैं| इन 170 हॉटस्पॉट जिलों की सूची में सभी छह महानगर दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, कोलकाता और हैदराबाद शामिल हैं |

हॉटस्पॉट या रेड जोन ऐसे जिले या शहर हैं, जहां संक्रमण का स्तर अधिक और 4 दिन से कम समय में केस दोगुना हो रहे और  देश या राज्य के 80% से ज्यादा पॉजिटिव केस मिले हैं| सूची में 123 जिलों को 'बड़े केंद्र' के रूप में चिन्हित किया गया है|इस सूची में अधिकांश बड़े शहर शामिल हैं| रेड जोन में अभी प्रकार की सेवाओं पर सख्त पाबन्दी होती है, इन क्षेत्रों में किसी को भी अंदर जाने या बाहर निकलने की अनुमति नहीं है|

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा चिन्हित देश के 25 राज्यों के 170 हॉटस्पॉट जिलों में से 123 जिले गंभीर संक्रमण के प्रभाव वाले हैं|  जबकि 47 हॉटस्पॉट जिलों में ऐसे इलाके शामिल हैं जिनमें एक ही स्थान पर कम से कम 15 मरीज पाए गए हैं|  इन क्षेत्रों को ‘क्लस्टर’ घोषित किया गया है| इसके अलावा 27 राज्यों में 207 संभावित हॉटस्पॉट जिले शामिल हैं| जो जिलों या शहर में देश या राज्य के 80 प्रतिशत से अधिक मामलों में हिस्सेदार हों उसे रेड जोन घोषित किया गया है | वहीं, ग्रीन जोन वो इलाके हैं, जहां 28 दिन से संक्रमण का कोई केस नहीं मिला है।

स्वाथ्य मंत्रालय के मुताबिक देश के 207 ऐसे भी जिले हैं, जहां संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा है। इन जिलों पर मंत्रालय और डॉक्टरों की टीम का पूरा फोकस है। सरकार ने कहा है कि जो जिले हॉटस्पॉट के दायरे में नहीं आते हैं, वहां 20 अप्रैल से लॉकडाउन में कुछ रियायतें दी जाएंगी। लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। अगर कहीं से नियम तोड़ने की खबर आएगी तो सभी छूट वापस ले ली जाएंगी।

 

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सर्वाधिक संक्रमण वाले 170 जिलों को हॉटस्पॉट जिले, सीमित संक्रमण वाले 207 जिलों को ‘संभावित हॉटस्पाट जिले’ और संक्रमण मुक्त शेष जिलों को ‘ग्रीन जोन’ में बांटते हुये राज्यों से कहा है कि अगर उनकी दृष्टि में ऐसे कोई जिले हैं जो हॉटस्पॉट के मानकों को पूरा करते हों, तो वे इन्हें इस श्रेणी में शामिल कर सकते हैं|
आपको बता दें, अकेले मुंबई में बुधवार तक कोरोना वायरस  के 1,896 मामले सामने आए, जो महाराष्ट्र  के कुुल 2,916 मामलों का आधे से ज्यादा हिस्सा है| दिल्ली सरकार ने 56 क्षेत्रों को नियंत्रण क्षेत्र के रूप में चिह्नित किया है| उत्तर प्रदेश में आगरा, गौतमबुद्धनगर, मेरठ, लखनऊ, गाजियाबाद, सहारनपुर, शामली, फिरोजाबाद और  मुरादाबाद रेड ज़ोन में शामिल हैं |