3 मई के बाद लॉकडाउन खत्म होने का प्लान तैयार |

भारत में कोरोना वायरस के मामले हर दिन बढ़ रहे हैं| कोरोना के प्रसार को रोकने को लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीने देशव्यापी लॉकडाउन को 3 मई तक कर दिया है| सोमवार से कुछ शर्तों के साथ लॉकडाउन में छूट भी दी जा रही है| सोमवार से कुछ शर्तों के साथ लॉकडाउन में छूट भी दी जा रही है। इन सबके सरकारी सूत्रों की मानें तो केंद्र 3 मई के बाद लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर विचार नहीं कर रही है। वहीं, लॉकडाउन खत्म होने के बाद का प्लान भी तैयार कर लिया गया है।

3 मई के बाद लॉकडाउन खत्म होने का प्लान तैयार |

 

जानकारी के मुताबिक, 3 मई के बाद लॉकडाउन को धीरे-धीरे हटाया जाएगा और कुछ शर्तों के साथ और रियायतें मिलेंगी। हालांकि, रेड और ऑरेंज जोन वाले इलाकों को फिलहाल कोई छूट नहीं मिलेगी। वही ऑरेंज और रेड जोन में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने के साथ-साथ छूट का दायरा भी बढ़ाया जाएगा।भारत में कोरोना वायरस को लेकर बने मंत्रियों का समूह (GoM) की बैठक में कहा गया कि इस बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय की राय पर पीएम मोदी ही अंतिम निर्णय लेंगे|

 मई के बाद क्या क्या रहेंगी छूट-

*घर से निकलने की छूट मिल सकती है, पर मास्क पहनना होगा और एक-दूसरे से दूरी बनाकर रखना होगा|

ग्रीन जोन वाले इलाकों में शहर के भीतर ही आवागमन की मंजूरी मिलेगी|

*3 मई के बाद भी ट्रेन, प्लेन से आवागमन फिलहाल मुश्किल है| इसपर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है|

*दफ्तरों में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए काम करने की इजाजत मिल सकती है.
*किसी जगह भीड़ के इकट्ठा होने पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी.

*शादी समारोह, धार्मिक स्थानों जैसी जगहों को लेकर फिलहाल राहत नहीं मिल सकती है| शादी में अधिकतम कितने मेहमान आ सकते हैं, इसके लिए आपको डीएम से लिखित अनुमति लेनी होगी.

*3 मई के बाद जनोपयोगी दुकानों को भी कुछ शर्तों के साथ राहत दिया जा सकता है|
*लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी मुंबई, दिल्ली, नोएडा, इंदौर जैसे इलाकों पर खास निगरानी रखी जाएगी|  यहां लॉकडाउन के कुछ नियमों का फिलहाल पालन होगा|

सूत्रों का कहना है कि 15 मई के बाद ही देश में कोरोना की स्थिति का बेहतर ढंग से आंकलन करने के बाद ही आगे की रणनीति तय होगी|

जहां कोरोना का खतरा नहीं वहां शुरू हो सकती है सेवा
सूत्रों से यह भी जानकारी मिली है कि जीओएम की बैठक में मंत्री घरेलू उड़ानें शुरू करने पर सहमत थे| यह सेवा उन्‍हीं इलाकों में शुरू की जाएगी जहां कोरोनावायरस के मामले नहीं आए हैं या जहां वायरस फैलने का कोई खतरा नहीं है| हालांकि केंद्रीय मंत्री लॉकडाउन के फौरन बाद राहत देने के मूड में नहीं हैं| जीओएम ट्रेनों या पब्लिक/प्राइवेट ट्रांसपोर्ट का मूवमेंट शुरू करने के पक्ष में नहीं है, क्योंकि  ट्रेनों में शोशल डिस्टेंसिंग का पालना करना मुश्किल होगा| वे नहीं चाहते कि लॉकडाउन खत्‍म होने के बाद भी राज्‍यों के बीच यातायात शुरू हो और कोरोना का प्रसार ग्रीन जोन वाले इलाको और राज्यों में होने की स्थिति उत्त्पन्न हो जाए |